माध्यमिक शिक्षा मंडल द्वारा संचालित 12वीं बोर्ड का हिंदी विषय का प्रश्नपत्र शनिवार को लीक हो गया था। कागज पर हाथ से लिखे प्रश्न सोशल मीडिया पर डाले थे। कागज में लिखे प्रश्न बोर्ड के प्रश्नपत्र से मिल रहे थे। इसमें से 80 नंबर के प्रश्न हिंदी के प्रश्नपत्र में आए। मामले में रविवार को शिक्षा विभाग ने दिनभर जांच कर प्रतिवेदन कलेक्टर, सीईओ सहित माध्यमिक शिक्षा मंडल को भिजवा दिया है। वहीं पुलिस को भी सोशल मीडिया पर पर्चा वायरल होने की सूचना दे दी है। प्रश्नपत्र लीक होने के मामले में शिक्षा विभाग के अधिकारियों ने दोनों छात्रों से भी पूछताछ की। उल्लेखनीय है लोहिया वार्ड के शुभम और आशीष ने 12वीं बोर्ड का हिंदी विषय का प्रश्नपत्र सोशल मीडिया पर वायरल होने की शिकायत कलेक्टर कार्यालय पहुंचकर की थी। बोर्ड से आए प्रश्नपत्र और कागज पर लिखे प्रश्न एक जैसे थे।

दैनिक भास्कर ने 20 फरवरी के अंक में बोर्ड का पेपर और कागज पर हाथ से लिखे प्रश्नों का मिलान प्रकाशित किया। कलेक्टर अमनवीरसिंह बैस ने मामले को गंभीरता से लेते हुए जिला शिक्षा अधिकारी को जांच कर प्रतिवेदन देने के निर्देश दिए थे।छात्रों से ली पूरी जानकारी, भेजा प्रतिवेदन रविवार को जिला शिक्षा अधिकारी एलएल सुनारिया योजना अधिकारी सुबोध शर्मा सहित अन्य अधिकारियों ने छात्र शुभम और आशीष को बुलाकर चर्चा की। छात्रों ने बताया यह पर्चा सुबह 7.51 बजे सोशल मीडिया के ग्रुप पर आ गया था। लेकिन पेपर खत्म होने के बाद दोपहर दो बजे हमने इस कागज के प्रश्नों को देखकर मिलान किया तो इसमें लिखे प्रश्न पूरे बोर्ड के पेपर से मेल खा रहे थे। इसके बाद शिकायत करने के लिए थाने पहुंचे, जहां से कलेक्टर कार्यालय भिजवा दिया। जिला शिक्षा अधिकारी ने जांच कर प्रतिवेदन कलेक्टर, नोडल अधिकारी व जिला पंचायत सीईओ तथा माध्यमिक शिक्षा मंडल को भिजवा दिया है।

 सोशल मीडिया पर जिसने डाली पोस्ट, उसी ने कर दी डिलीट:-

सोशल मीडिया के ग्रुप पर आकाश •ठाकुर ने प्रश्नों का यह कागज डाला था। इस ग्रुप के करीब 58 छात्रों से इसे देखा था। लेकिन रविवार को आकाश ठाकुर ने इसे डिलीट कर दिया। छात्रों का कहना है कि इस ग्रुप से वह 18 फरवरी को ही जुड़े थे। यह पेपर लीक कहां से हुआ। यह जांच का विषय है। छात्रों ने कहा- पेपर खत्म होने के बाद देखा था कागज, मिलान करने पर 100% मिला, कहां से आया इसकी जांच की जाएगी। इस परीक्षा के दौरान सीसीटीवी कैमरों से परीक्षार्थियों पर नजर रखी गई। परीक्षा में नकल रोकने के लिए कुल 16 उड़नदस्ते तैयार किए गए हैं। इनमें आठ उड़नदस्ते जिला प्रशासन की ओर से और आठ उड़नदस्ते स्कूल शिक्षा विभाग की ओर से तैयार किए गए हैं। इन उड़नदस्तों से संवेदनशील और अतिसंवेदनशील केंद्रों पर विशेष निगरानी रखी। प्रत्येक परीक्षा केंद्र के बाहर पुलिसकर्मी भी ड्यूटी पर तैनात थे। इस दौरान केंद्रों के आसपास खड़े संदिग्ध लोगों को वहां से हट जाने के लिए भी कहा गया। बोर्ड परीक्षा के दौरान निजी स्कूल और कोचिंग संचालक अपना रिकार्ड बेहतर करने के लिए परीक्षार्थियों को नकल कराने के प्रयास करते हैं।

MP Board Viral Hindi Pepar 2022 News
MP Board Viral Hindi Pepar 2022 News

पुलिस को दिया सूचना पत्र:-

जिला शिक्षा अधिकारी ने इस मामले की जांच कर प्रथम सूचना पत्र कोतवाली थाने में दिया है। कोतवाली थाने में दिए आवेदन में जिस सोशल मीडिया ग्रुप पर प्रश्नों का कागज आया था, उसकी भी जानकारी दी। एसपी सिमाला प्रसाद ने बताया कोतवाली थाने में जिला शिक्षा अधिकारी ने आवेदन दिया है। आवेदन देखकर मामले की जांच की जाएगी।पेपर लीक मामला: शिकायत करने वाले छात्रों से भी सोशल मीडिया पर आए कागज के संबंध में की पूछताछ। व्हाट्सएप पर वायरल हुआ पर्चा, निकला: परीक्षा से पहले रात में व्हाट्सएप पर प्रश्नपत्र वायरल हो गया। हालांकि इस प्रश्नपत्र असली है या फर्जी, इस बारे में प्रशासन के लोग कुछ नहीं बोल रहे हैं। हालांकि बाद में पता चला कि पर्चा फर्जी था और छात्रों को बरगलाने वायरल किया गया था।

महत्वपूर्ण जानकारियाँ —

“बोर्ड परीक्षा के लिए TIPS & TRICKS के लिए यहाँ पर क्लिक करें। ”

रोजाना टेस्ट देने के लिए यहाँ पर क्लिक करें

By admin

Leave a Reply

Your email address will not be published.

instagram volgers kopen volgers kopen buy windows 10 pro buy windows 11 pro

film porno italiano xxx porno italiano