कोरोना सुस्त, अब बड़ी परीक्षा ऑफलाइन करायेगा विवि

रीवा अवधेश प्रताप सिंह विश्वविद्यालय स्नातक की वार्षिक पद्धति से होने वाली परीक्षा सम्भवतः इसी माह प्रारम्भ करा देगा नियमित छात्रों की यह वार्षिक परीक्षा ऑफलाइन पद्धति से ही होगी। स्नातक प्रथम, द्वितीय व तृतीय वर्ष की इस परीक्षा में रीवा विश्वविद्यालय से सम्बद्ध महाविद्यालयों के करीब 80 हजार छात्र शामिल होंगे। कोरोनाकाल, लॉकडाउन से उबरने के बाद पहली दफा विश्वविद्यालय यह बड़ी परीक्षा कराने जा रहा है,की भौतिक उपस्थिति रहेगी। बहरहाल, विश्वविद्यालय ने तैयारी के क्रम में ऑनलाइन परीक्षा फार्म भरा लिये है। अभी विलम्ब शुल्क के साथ परीक्षा फार्म भरे जा सकते हैं। वहीं, विश्वविद्यालय में परीक्षा केंद्रों के निर्धारण की प्रक्रिया जारी है, जल्दी ही केंद्रों की स्थिति भी तय हो जायेगा।

साथ ही परीक्षा कार्यक्रम भी घोषित हो जायेगा। टाइम टेबिल होली त्योहार के बाद जारी हो सकता है, इस लिहाज से शिक्षकों ने छात्रों को परीक्षा के लिए तैयार हो जाने की हिदायत भी दे दी है। गौरतलब है कि मार्च 2020 में लॉकडाउन के चलते सभी महाविद्यालय बंद हो गए थे। इसके उपरांत सत्र 2019-20 और सत्र 2020 21 की परीक्षा ओपन बुक प्रणाली के तहत कराई गई। अब कोरोना नियंत्रण होता देख राज्य शासन ने ऑफलाइन परीक्षा कराने के निर्देश विश्वविद्यालय को दिए है। इस क्रम में विश्वविद्यालय द्वारा दिसम्बर 2021 की सेमेस्टर परीक्षा ऑफलाइन कराई जा चुकी है अन है। 20.1 – 22 की वार्षिक परीक्षा भी ऑफलाइन कराने की कवायद भी चालू है।

दुनियाभर में एक हफ्ते में ही 8 फीसदी तक बढ़ा संक्रमण:-

कई देशों में बढ़ते कोरोना वायरस संक्रमण पर विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) ने सतर्क होने की चेतावनी है। डब्ल्यूएचओ आशंका जताई है कि यह बड़ी परेशानी की शुरुआत हो सकती है। चीन और दक्षिण कोरिया में संक्रमण तेजी से फैल रहा है। इसके साथ ही विशेषज्ञों का कहना है कि अमेरिका समेत कई दूसरे देशों में भी स्थिति बिगड़ सकती है। डब्ल्यूएचओ ने कहा कि पिछले सप्ताह से संक्रमण बढ़ने का कारण ओमिक्रॉन व उसका सब वैरिएंट बीए.2, सामाजिक ढील व अन्य कारणों से है। w .2 अब तक का सबसे तेजी से फैलने वाला वैरिएंट दिख रहा है, वैसे इससे गंभीर बीमारी का संकेत नहीं मिला है। पिछले सप्ताह के मुकाबले दुनियाभर में नए संक्रमण की संख्या 8 फीसदी तक बढ़ गई। 7 – 13 मार्च के बीच 1.1 करोड़ नए मरीज और 43 हजार से कुछ ज्यादा मौतें हुई।

भारत में ओमिक्रॉन के मामले अन्य देशों से कम-भारत ने दूसरे देशों के मुकाबले कोरोना वैरिएंट ओमिक्रॉन को काफी बेहतर तरीके से संभाला है। स्वास्थ्य मंत्रालय ने कहा कि दुनियाभर में रोज करीब 15 – 17 लाख मामले सामने आ रहे हैं, लेकिन भारत में रोजाना सिर्फ 3000 मामले ही मिल रहे हैं। वहीं देश में रिकवरी रेट 98.73% है। भारत में 30,800 सक्रिय मामलों के साथ एक्टिव केस 0.07% है। स्वास्थ्य मंत्रालय ने कहा कि देश में अब तक 180.80 करोड़ कोरोना वैक्सीन लगाई गई है।

coronavirus pandemic variant 2022
coronavirus pandemic variant 2022

इजराइल में पाया गया कोरोना का नया वैरिएंट-इजराइल ने दावा किया है कि एक नए वैरिएट से देश के लोग संक्रमति हो रहे हैं। देश के स्वास्थ्य मंत्री ने कहा कि दूसरे देश से इजराइल पहुंचे दी यात्री नए वैरिएट से संक्रमति पाए गए। रिपोर्ट्स के मुताबिक यह नया स्ट्रेन ओनिकॉन के दो सब वैरिफ्ट का मिलाजुला रूप है। वह बीए 1 और बीए 2 से मिलकर बना है। इससे संक्रमित होने पर लोगों को हल्का बुखार, सिरदर्द होता है। इसके संक्रमितों को किसी खास ट्रीटमेंट की जरूरत नहीं पड़ती है।

वेतन बढ़ाने की मांग को लेकर महिला बाल विकास अधिकारी करेंगे 21 से हड़ताल:-

जासं, भोपाल। प्रदेश के महिला बाल विकास में परियोजना अधिकारियों ने अब अपनी लंबित मांगों को लेकर सरकार पर दबाव बनाना शुरू कर दिया है। संयुक्त मोर्चा आईसीडीएस, परियोजना अधिकारी संघ एवं पर्यवेक्षक संघ मप्र द्वारा एसीएस महिला एवं बाल विकास विभाग को ज्ञापन सौंपा गया है। ज्ञापन में कई लंबित मांगों का जिक्र है और साथ ही शासन को चेतावनी दी गई है कि यह मांगों का निराकरण नहीं किया गया तो 21 मार्च से पूरे प्रदेश में परियोजना अधिकारी एवं पर्यवेक्षक काम बंद हड़ताल शुरू कर देंगे। इससे होने वाली तमाम परेशानियों की जिम्मेदार सरकार होगी।

मांगा 4800 ग्रेड पे, प्रमोशन भी: ज्ञापन के माध्यम से परियोजना अधिकारियों के संघ ने सरकार से मांग की है कि उन्हें वर्तमान में 3600 ग्रेड पे के अनुसार वेतन मिल रहा है। जो कि कम है, इसलिए उनका वेतन ग्रेड पे बढ़ाकर 4800 किया जाना चाहिए। इसके अलावा कई पद हैं, जिन पर परियोजना अधिकारियों को पदोन्नत कर नीचे के पदों पर नई भर्ती की जाए। सन 2014 के बाद से सभी सीडीपीओ की परीवीक्षा अवधि समाप्त की जाए। पर्यवेक्षकों का ग्रेड पे 2400 से बढ़ाकर 3600 रुपए किया जाए।

 

Leave a Comment